मन के दरवाजे खोल जो बोलना है बोल

मेरे पास आओ मेरे दोस्तों, एक किस्सा सुनाऊं...

55 Posts

3328 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2077 postid : 76

बच गया एंडरसन करके खून हजार...

Posted On: 11 Jun, 2010 Others,न्यूज़ बर्थ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

henderson

बच गया एंडरसन करके खून हजार…
न्याय मांगती रह गई पीड़ितों की चित्कार…
भ्रष्ट नेताओं ने निभाई एंडरसन से यारी..
भेज दिया स्वदेस उसको रोक के गिरफ्तारी….
ये है भारत देश जहां कण-कण में भ्रष्टाचार…
बच गया एंडरसन करके खून हजार…

२ दिसंबर ८४ की थी वो जहरीली रात….
मौत लगाए बैठी थी सबके जीवन पर घात….
चिमनी से तब निकला एमआईसी का फुंकार…
लील गया कई जानें, कईयों को किया लाचार….

न्याय की राह तकते पीड़ित फिर रहे मारे-मारे….
और अपराधी घूम रहे हैं मस्ती में मतवारे…
ढाई दशक बाद जब आई न्याय की बारी…
तब उजागर हुई नेताओं की सारी भ्रष्टाचारी…
केस कमजोर बनाया ताकि अपराधी चढ़ें न सूली…
लाचार कानून सजा दे पाया वो भी बस मामूली…
धन्य है भारत का कानून, धन्य है सरकार…
भारत के कण-कण में फैला है भ्रष्टाचार…

अमेरिका में छिपा हुआ है एंडरसन फरार…
भारत उसको लाने की जहमत क्यूं उठाए सरकार…
देख रही दुनिया होते न्याय को तार-तार…
बच गया एंडरसन करके खून हजार…

| NEXT



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

aditi kailash के द्वारा
June 12, 2010

अच्छी अभिव्यक्ति…….

    sumityadav के द्वारा
    June 12, 2010

    प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद।

ajaykumarjha1973 के द्वारा
June 11, 2010

सामयिक और सटीक रचना

    sumityadav के द्वारा
    June 12, 2010

    अजय जी, आपको कविता अच्छी लगी यह मेरे लिए हर्ष की बात है। धन्यवाद।


topic of the week



latest from jagran